डिवाइडर तोड़ डंपर से टकराई; सेंट्रल लॉक की वजह से बाहर नहीं निकल पाए लोग

डिवाइडर तोड़ डंपर से टकराई; सेंट्रल लॉक की वजह से बाहर नहीं निकल पाए लोग

Share with
Views : 36
बरेली हादसे के बाद कार सेंट्रली लॉक हो गई। अंदर बैठा कोई भी बाहर नहीं निकल पाया।
उत्तर प्रदेश के बरेली में कार और डंपर की टक्कर में 8 बारातियों की कार में जलकर मौत हो गई। मृतकों में 7 युवक और एक बच्चा है। हादसा भोजीपुरा के पास नैनीताल हाईवे पर शनिवार देर रात हुआ। यहां तेज रफ्तार अर्टिगा कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर तोड़कर दूसरी लेन में आ गई। इतने में सामने से आ रहे डंपर ने कार को टक्कर मारी।

डंपर भी तेज स्पीड में था। वह कार को 15 से 20 मीटर तक घसीटता ले गया। इसके बाद धमाका हुआ और कार और डंपर में आग लग गई। SSP घुले सुशील चंद्रभान ने बताया कि कार सेंट्रली लॉक थी, इसलिए कोई भी कार सवार बाहर नहीं निकल पाया। सबकी अंदर जलकर मौत हो गई। बाद में कार को काटकर शवों को बाहर निकाला गया।

डंपर से टक्कर के बाद जलती अर्टिगा कार।
डंपर से टक्कर के बाद जलती अर्टिगा कार।
बरेली से बारात से लौट रहे थे सभी
बहेड़ी के जाम मोहल्ला निवासी उवैस की बारात शनिवार को बरेली के फहम लॉन आई थी। इसमें जाने के लिए वहीं रहने वाले रिश्तेदार फुरकान ने अर्टिगा कार बुक कराई थी। कार मालिक सुमित गुप्ता है, जिसका ट्रैवल का काम है। फुरकान अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ बारात में शामिल होने के लिए पहुंचा। शादी अटेंड की। फिर रात में 11 बजे इन लोगों ने बारात से वापसी कर ली।

टक्कर के बाद जलती कार और डंपर।
टक्कर के बाद जलती कार और डंपर।
कार का टायर फटने से कार बेकाबू होने की आशंका
पुलिस के मुताबिक, बाराती कार से भोजीपुरा थाने से करीब 2 किमी दूर दभौरा गांव तक पहुंचे थे। तभी कार बेकाबू हो गई। डिवाइडर को तोड़ते हुए दूसरी लेन में आ गई। उस लेन में उत्तराखंड के किच्छा से रेत लेकर आ रहे डंपर से टकरा गई। डंपर की स्पीड में था, ऐसे में टक्कर के बाद कार का अगला हिस्सा बुरी तरह पिचक गया।

पुलिस को आशंका है कि कार का टायर फटने से वह अनियंत्रित हुई है। हालांकि, कार के जल जाने के कारण यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। एक आशंका यह भी है कि ड्राइवर को झपकी आने की वजह से कार अनियंत्रित हो गई।

डंपर से टक्कर के बाद कार की बोनट उखड़ गई और दूर जा रही। जिससे कार का नंबर जलने से बच गया।
डंपर से टक्कर के बाद कार की बोनट उखड़ गई और दूर जा रही। जिससे कार का नंबर जलने से बच गया।
धमाका इतना तेज हुआ कि लोग नींद से उठ गए
अर्टिगा और डंपर में टक्कर के बाद धमाका इतना तेज हुआ कि हाईवे के किनारे रहने वाले लोगों की नींद खुल गई। वह घरों से बाहर पहुंचे। देखा तो कार और डंपर में आग की लपटें इतनी तेज थीं कि वह कुछ कर नहीं सके। अंदर फंसे लोगों को निकालने की कोशिश तो की, लेकिन हर कोशिश नाकाम रही।

सूचना पर पुलिस और फायर ब्रिगेड को दी गई। पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम ने आग पर काबू तो पाया, लेकिन तब तक कार सवार सभी 8 लोग जिंदा जल चुके थे। पुलिस के मुताबिक, शव इतनी बुरी तरह जल गए कि उनकी शिनाख्त कर पाना तक तक मुश्किल है। SSP ने बताया कि शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। आगे की कार्रवाई जारी है।

जलने के बाद कार की हालत देख सकते हैं। कार अंदर से लॉक हो जाने से कोई बाहर नहीं निकल सका।
जलने के बाद कार की हालत देख सकते हैं। कार अंदर से लॉक हो जाने से कोई बाहर नहीं निकल सका।
कार सवार ये 8 लोग जिंदा जले
1. इरफान पुत्र भूरे निवासी मितापुर
2. मोहम्मद आरिफ पुत्र मन्नी
3. शादाब पुत्र अब्दुल माजिद
4. आसिफ पुत्र शमीम
5. आलिम पुत्र जाहिद अली
6. अय्यूब पुत्र यूनिस
7. मुन्ने पुत्र इस्माइल
8. आसिफ पुत्र यूसुफ
error: कॉपी नहीं होगा भाई खबर लिखना सिख ले