पोहरी के ग्राम में कुपोषण से हुई बच्ची की मृत्यु और आंखों की रोशनी छिनी, इस मामले पर जिला कार्यक्रम

पोहरी के ग्राम में कुपोषण से हुई बच्ची की मृत्यु और आंखों की रोशनी छिनी, इस मामले पर जिला कार्यक्रम

Share with
Views : 118
शिवपुरी, 18 सितम्बर 2023/ महिला एवं बाल विकास के जिला कार्यक्रम अधिकारी देवेंद्र सुंदरियाल ने बताया कि गत दिवस समाचार पत्रों में प्रकाशित खबर पोहरी में कुपोषण ने मासूम की ऑंखों की रोशनी छीन ली और एक बच्ची की मौत की खबर के संबंध में जांच की गई।
  जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि सुमित्रा आदिवासी दवारा समय पर ई केवायसी नही करवाये जाने के कारण पोषण आहार अनुदान राशि भुगतान में बिलंव हुआ किन्तु सुमित्रा पत्नि रामभरत आदिवासी एमपीटास
पोर्टल पर 28 अगस्त को एमपीटास एनपीसीआई अपडेट होने के पश्चात आधार आधारित बैंक खाते में प्रति माह 1000 रूपए के मान से माह मई 2023 से अगस्त 2023 तक 04 माह की राशि एक मुक्त 4000 रुपये का भुगतान 30 अगस्त को हुआ है। इस प्रकार बालिका की मृत्यु होने की दिनांक से दो दिवस पूर्व ही पोषण आहार अनुदान की राशि भुगतान की जा चुकी थी। माह सितम्बर 2023 की पोषण आहार अनुदान राशि 13 सितम्बर 2023 को भुगतान की जा चुकी है। मृत बालिका के पिता रामभरत आदिवासी का नाम अंत्योदय राशन कार्ड मे सम्मिलित है, जिससे परिवार के समस्त सदस्यों को प्रतिमाह निर्धारित मात्रा 35 कि.ग्रा. उचित मूल्य की दुकान से निःशुल्क खाद्यान्न प्राप्त हो रहा है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना के प्रावधानानुसार ऐसी विवाहित महिलायें जिन्हे पोषण आहार अनुदान के रूप मे राशि रूपए 1000 प्रतिमाह प्राप्त हो रहे हैं, वह लाड़ली बहना योजना अन्तर्गत पात्र नहीं है। 
इसके साथ ही बालिका संजना माता  कविता धानुक पिता वंटी धानुक उम्र 03 वर्ष 01 माह निवासी भटनावर पोषण पुनर्वास केन्द्र पोहरी की ऑंखों की जांच जिला चिकित्सालय शिवपुरी में भेज कर कराई गई जिसमें बालिका संजना को ऑंखो की जन्मजात विकृति, माइक्रो कॉर्निया के साथ कॉर्नियो लोकेसेटी एवं आईरिस कॉलोबिमा है जिसके कारण बच्ची को जन्म से दिखाई नही देता है
error: कॉपी नहीं होगा भाई खबर लिखना सिख ले